आपको अच्छे लोग चुनकर उनका साथ निभाना हैं

जैसे शक्कर और नमक मिले हो पर चींटी उनमे से सिर्फ शक्कर चुनती है।

वैसे ही दुनिया मे अच्छे और बुरे दोनो लोग है,

आपको अच्छे लोग चुनकर उनका साथ निभाना हैं।|

जिसका मन मस्त है..उसके पास समस्त है

🌿🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟
एक सुखद जीवन के लिए,
मस्तिष्क में सत्यता,
होठों पर प्रसन्नता और
हृदय में पवित्रता जरूरी हैं।

जिसका मन मस्त है..!
उसके पास समस्त है
🌿🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟
🌹🙏🏼 शुभ प्रभात 🙏🏼🌹

परिस्थिति चाहे कैसी भी हो, पर कभी ख़ुद को टूटने नही देना

पेड़ के नीचे रखी भगवान की टूटी मूर्ति को देख कर समझ आया,
कि..
परिस्थिति चाहे कैसी भी हो,
पर कभी ख़ुद को
टूटने नही देना..
वर्ना ये दुनिया
जब टूटने पर भगवान को
घर से निकाल सकती है
तो फिर हमारी तो
औकात ही क्या है … 💞✍🏻🙏
🌻🌺🌾🌴🌴💐
🌹🙏🏼 शुभ प्रभात 🙏🏼🌹

जिन्दगी फिर भी कम पडती है रिश्ते निभाने में

अच्छे और सच्चे रिश्ते न तो खरीदे जा सकते हैं, न उधार लिए जा सकते हैं…
इसलिए….. उन लोगों को जरुर महत्व दें, जो आपको महत्व देते हैं…

मेहनत लगती है
सपनो को सच बनाने में,
हौसला लगता है
बुलन्दियों को पाने में,
बरसो लगते है जिन्दगी बनाने में,
और जिन्दगी फिर भी कम पडती है
रिश्ते निभाने में।।
🌹🙏🏼 शुभ प्रभात 🙏🏼🌹

इस पल को मुस्कुराहट के साथ जियें

अतीत के बारे में कठिन मत सोचें,
यह आँसू लाता है…
भविष्य के बारे में अधिक मत सोचें,
यह भय लाता है …
इस पल को मुस्कुराहट के साथ जियें,
यह आनन्द लाता है….

  ༺꧁ शुभ प्रभात ꧂༻

झाँक रहे है इधर उधर सब। अपने अंदर झांकें कौन ?

झाँक रहे है इधर उधर सब। अपने अंदर झांकें कौन ?

ढ़ूंढ़ रहे दुनियाँ में कमियां । अपने मन में ताके कौन ?

दुनियाँ सुधरे सब चिल्लाते । खुद को आज सुधारे कौन ?

पर उपदेश कुशल ब brहुतेरे । खुद पर आज विचारे कौन ?

हम सुधरें तो जग सुधरेगा | यह सीधी बात स्वीकारे कौन ?

🌹🙏🏼 शुभ प्रभात 🙏🏼🌹

स्वाभिमान कभी मरता नहीं

स्वाभिमान
कभी मरता नहीं,

*और अभिमान
अधिक समय तक
जीवित रहता नहीं,
जिसकी भाषा में सभ्यता होती है,
उसी के जीवन में भव्यता एवं दिव्यता होती है!!

जो अपने थे वो कभी खुश नहीं हुए

अनुभव कहता है
खामोशियाँ ही बेहतर हैं,
शब्दों से लोग रूठते बहुत हैं…

जिंदगी गुजर गयी….
सबको खुश करने में ..

जो खुश हुए वो अपने नहीं थे,
जो अपने थे वो कभी खुश नहीं हुए…

कितना भी समेट लो..
हाथों से फिसलता ज़रूर है..

ये वक्त है साहब..
बदलता ज़रूर है..

थोड़ी बुराइयां भी

थोड़ी बुराइयां भी शामिल कीजिए अपनी शख्सियत में हुजूर,

शरीफ़ लोग अक्सर शक के दायरे में रहते हैं…!!