दूसरों को नीचा दिखाने में नहीं

अंधेरे को हटाने में समय बर्बाद मत करो, दीये को जलाने में समय लगाओ.

दूसरों को नीचा दिखाने में नहीं, बल्कि खुद को ऊँचा उठाने में समय लगाओ!!

जीवन की सारी दौड़

जीवन की सारी दौड़

केवल अतिरिक्त के लिए हैं !

अतिरिक्त पैसा, अतिरिक्त पहचान, अतिरिक्त शोहरत..अतिरिक्त प्रतिष्ठा!

यदि यह अतिरिक्त पाने की लालसा ना हो तो जीवन एकदम सरल है!

जो सम्बन्ध हृदय से जुड़े हैं

ना झुकने की अभिलाषा है,

ना झुकाने की अभिलाषा है,

जो सम्बन्ध हृदय से जुड़े हैं,

केवल उन्हें निभाने की अभिलाषा है

आपके होने या ना होने से किसी को कोई फर्क नही पड़ता!

चार दिन गायब होकर देख लीजिए लोग आपका नाम तक भूल जाएंगे।

इंसान सारी जिंदगी धोखे में रहता है कि वह लोगों के लिए अहम है…

लेकिन हकीकत यह होती है कि…

आपके होने या ना होने से किसी को कोई फर्क नही पड़ता!

जिसकी जितनी जरूरत होती है…

उसकी उतनी ही अहमियत होती है ! न रुकी वक़्त की गर्दिश*

न ज़माना बदला…पेड़ सूखा तो…परिंदो ने ठिकाना बदला !

हृदय से अच्छे लोग

हृदय से अच्छे लोग

बुद्धिमान होने के बाद भी

धोखा खा जाते हैं,

क्योंकि…….

वो दूसरों को भी…..

हृदय से अच्छे होने का

विश्वास कर बैठते हैं।

एक अच्छे व्यक्तित्व की पहचान होती है

आवश्यकता अनुसार लोगों से जुड़े रहना एक सामान्य व्यवहार होता है!

परंतु बिना आवश्यकता के भी लोगों का ख्याल रखना एक अच्छे व्यक्तित्व की पहचान होती है!!

सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये

कौन पूरी तरह काबिल है ,

कौन पूरी तरह पूरा है ,

हर एक शक्स कही न कही… किसी जगह थोड़ा सा अधूरा है !!

ज़िन्दगी एक हसीन ख़्वाब है,

जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिये,

ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे… सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये !!

नर में भी नारायण पाये जाते हैं

जिसका जैसा चरित्र होता है

उसका वैसा ही मित्र होता है

शुद्धता होती है विचारों में

आदमी कब पवित्र होता है

फूलो में भी कीड़े पाये जाते हैं..,

पत्थरों में भी हीरे पाये जाते हैं..

बुराई को छोड़कर

अच्छाई देखिये तो सही..,

नर में भी नारायण पाये जाते हैं..!!