Waqt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai

Waqt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai,
Chhote se Zakhm Ko Nasoor Kar Deta Hai,
Kaun Chahta Hai Apno Se Dur Rehna,
Par Waqt Sabko Majboor Kar Deta Hai.

Related Shayari

When I fight with you

When I fight with you, I’m really fighting for us, if I didn’t care I wouldn’t bother.
Read more...

True love is tight hug after a fight

True love is tight hug after a fight.
Read more...

सफ़र तुम्हारे साथ बहुत छोटा था

सफ़र तुम्हारे साथ बहुत छोटा था, मगर यादगार हो गये तुम अब जिदंगी भर के लिए..!
Read more...

You may also like

तुमसे प्यार करता हूँ कोई भी

ये मत पुछ कि मैं तुमसे कितना प्यार करता हूँ? बस इतना जान लो कि, बस तुमसे करता हूँ और बेपनाह करता हूँ।
Read more...

Hum samandar hai

Hum samandar hai hamen khamoosh rahne do
zara machal gaye to shahar le doobengey

हम समंदर है हमें खामोश रहने दो
ज़रा मचल गए तो शहर ले डूबेंगे

Read more...

दोस्ती से बड़ी इबादत

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी, दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी, जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा, उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
Read more...

Karte Ho Itni Nafarat…

Chala Jaunga Main Dhundh Ke Badal Ki Tarah,
Dekhte Rah Jaoge Mujhe Pagal Ki Tarah,
Jab Karte Ho Mujhe Itni Nafrat Toh Kyun?
Sajaate Ho Aankhon Mein Mujhe Kajal Ki Tarah.

Read more...

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती, फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती, मिलना हमारी तक़दीर में था वरना, इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।
Read more...

Har Ek Haseen Chehre Mein Gumaan Uska Tha

Har Ek Haseen Chehre Mein Gumaan Uska Tha,
Basaa Na Koi Dil Mein Ye Makaan Uska Tha,
Tamaam Dard Mit Gaye Mere Dil Se Lekin,
Jo Na Mit Saka Woh Ek Naam Uska Tha.

Read more...