तुम में से कोई राम है क्या?

मैंने महसूस किया है उस जलते हुए रावण का दुःख

जो सामने खड़ी भीड़ से बारबार पूछ रहा था.. तुम में से कोई राम है क्या?

Related Shayari

इस तरह प्यार नहीं होता

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता, रोता है दिल जब वो पास नहीं होता. बर्बाद हो गये हम उसके प्यार में, और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता.
Read more...

इंतजार

तुम पर भी यकीन है और मौत पर भी ऐतबार है. देखते हैं पहले कौन मिलता है हमें दोनों का इंतजार है.
Read more...

जो ठान लेता है वो जीत जाता है

जिंदगी में जीत और हार तो हमारी सोच बनाती है, जो मान लेता है वो हार जाता है, जो ठान लेता है वो जीत जाता है!!
Read more...

You may also like

प्यार के रिश्ते की हो गयी है

Read more...

Hum samandar hai

Hum samandar hai hamen khamoosh rahne do
zara machal gaye to shahar le doobengey

हम समंदर है हमें खामोश रहने दो
ज़रा मचल गए तो शहर ले डूबेंगे

Read more...

दोस्ती से बड़ी इबादत

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी, दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी, जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा, उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
Read more...

तुमसे प्यार करता हूँ कोई भी

ये मत पुछ कि मैं तुमसे कितना प्यार करता हूँ? बस इतना जान लो कि, बस तुमसे करता हूँ और बेपनाह करता हूँ।
Read more...

Karte Ho Itni Nafarat…

Chala Jaunga Main Dhundh Ke Badal Ki Tarah,
Dekhte Rah Jaoge Mujhe Pagal Ki Tarah,
Jab Karte Ho Mujhe Itni Nafrat Toh Kyun?
Sajaate Ho Aankhon Mein Mujhe Kajal Ki Tarah.

Read more...

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते
कसूर हर बार गल्तियों का नही होता

vaham se bhi aksar khatm ho jaate hain kuchh rishte
kasoor har baar galtiyon ka nahee hota

Read more...