Teri Mohabbat mein

तेरी मोहब्बत मैं
और मेरी फितरत मैं
फर्क इतना है की….
तेरा Attitude नही जाता
और मुझे झुकना नहीं आता…

Teri Mohabbat mein..
Aur meri fitrat mein..
Fark sirf itna hai,
K tera attitude nahi jata..
Aur mujhe jhukna nahi aata.

Related Shayari

अधर्म पर धर्म की जीत

अधर्म पर धर्म की जीत, अन्याए पर न्याय की विजय.. दशहरे की शुभकामनायें।
Read more...

तुम में से कोई राम है क्या?

मैंने महसूस किया है उस जलते हुए रावण का दुःख जो सामने खड़ी भीड़ से बारबार पूछ रहा था.. तुम में से कोई राम है क्या?
Read more...

जगत की पालनहार है मां

जगत की पालनहार है मां, जीवन की मुक्तिधाम हैं मां, हमारी तुम्हारी भक्ति का आधार है मां, सबकी रक्षा की अवतार है मां, नवरात्र की आपको सपरिवार शुभकामनाएं
Read more...

You may also like

फासले तो बढ़ा रहे हो मगर इतना याद रखना

Faasle to badha rahe ho magar itna yaad rakhna
Ke mohabbat baar baar insaan par meharbaan nahin hoti
फासले तो बढ़ा रहे हो मगर इतना याद रखना
के मोहब्बत बार बार इंसान पर मेहरबान नहीं होती

Read more...

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते
कसूर हर बार गल्तियों का नही होता

vaham se bhi aksar khatm ho jaate hain kuchh rishte
kasoor har baar galtiyon ka nahee hota

Read more...

वक़्त गुजर जायेगा…

साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा, दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा, जी लो ये पल जब तक साथ है दोस्तों, कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।
Read more...

दोस्ती से बड़ी इबादत

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी, दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी, जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा, उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
Read more...

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती, फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती, मिलना हमारी तक़दीर में था वरना, इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।
Read more...

प्यार के रिश्ते की हो गयी है

Read more...