किस्मत दग़ा कर गयी…

दिल से पूछो तो आज भी तुम मेरे ही हो
ये ओर बात है कि…..किस्मत दग़ा कर गयी..

इस शक की वजह से ना जाने कितने रिश्ते टूटे
कभी ज़िन्दगी हमसे रूठी, कभी हम ज़िन्दगी से रूठे..

इस अजनबी दुनिया मैं किसी से दिल न लगाना
सुना है बिन बुलाये आने वाले बिन बताये ही चले जाते है..