यूं तो उलझे हैं सभी अपनी-अपनी उलझनों में

यूं तो उलझे हैं सभी अपनी-अपनी उलझनों में,

पर सुलझने की कोशिश हमेशा खुद को ही करनी पडेगी

Related Shayari

यूं तो उलझे हैं सभी अपनी-अपनी उलझनों में

यूं तो उलझे हैं सभी अपनी-अपनी उलझनों में, पर सुलझने की कोशिश हमेशा खुद को ही करनी पडेगी
Read more...

All are entangled in their own problems

all are entangled in their own problems, but always try to solve them themselves. Good Morning
Read more...

आज एक ही परिवार में कई पड़ोसी हो गये हैं।

एक जमाना था जब पड़ोसी भी परिवार का हिस्सा थे ... और आज एक ही परिवार में कई पड़ोसी हो गये हैं।
Read more...

You may also like

वक़्त गुजर जायेगा…

साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा, दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा, जी लो ये पल जब तक साथ है दोस्तों, कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।
Read more...

तुमसे प्यार करता हूँ कोई भी

ये मत पुछ कि मैं तुमसे कितना प्यार करता हूँ? बस इतना जान लो कि, बस तुमसे करता हूँ और बेपनाह करता हूँ।
Read more...

दोस्ती से बड़ी इबादत

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी, दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी, जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा, उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।
Read more...

Hum samandar hai

Hum samandar hai hamen khamoosh rahne do
zara machal gaye to shahar le doobengey

हम समंदर है हमें खामोश रहने दो
ज़रा मचल गए तो शहर ले डूबेंगे

Read more...

प्यार के रिश्ते की हो गयी है

Read more...

Karte Ho Itni Nafarat…

Chala Jaunga Main Dhundh Ke Badal Ki Tarah,
Dekhte Rah Jaoge Mujhe Pagal Ki Tarah,
Jab Karte Ho Mujhe Itni Nafrat Toh Kyun?
Sajaate Ho Aankhon Mein Mujhe Kajal Ki Tarah.

Read more...